भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आधी रात की रोशनी / तसलीमा नसरीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: तसलीमा नसरीन  » आधी रात की रोशनी

पीछे कुछ नहीं, पीछे है ख़ाली घर और खुला मैदान
पीछे है शून्यता, यादों के अँधेरे में तीन सौ तिलचट्टे
पीछे है, भूलचूक, पीछे है नाला-नहर, जिनमें तय है-- गिरना
पीछे है क्रंदन, पीछे कोई नहीं,
पीछे है अंधे की तरह टोहना-टटोलना

सामने पा सकती हूँ, अगर सामने कुछ हो
अगर सामने रहे, सामने थोड़ा बहुत
अगर सामने एक-दो पत्थर मिलें
तो मैं पत्थर में पत्थर से ही जला दूंगी आग।

आग भगाएगी साँप-बिच्छू
मैं पहचान लूँगी पेड़, पहचान लूँगी लता-पत
लेकिन सबसे अच्छा होगा
अगर मैं इन्सान को पहचान सकूँ।


मूल बांग्ला से अनुवाद : मुनमुन सरकार