भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आपणो कांई लेवै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गैलसफा गिनती में घणा कोनी
आंख्यां सूं आंधा ऐ
एक है

स्याणा अर सूझ खातर
आपरै नांव सूं ओळखीजता
अणगिणती आदमी
आपरी अलायदी दुनिया में रैवै
सहन करै
गैलसफां री गूंग

रेकारो ई कोनी देवै
मूंडै में मूंग घाल्यां बैठा रैवै
सोचै-
आपणो कांई लेवै !