भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आप जो आए / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


147
आप जो आए
मन-मरुभूमि में
बदरा छाए ।
148
हृत्-तन्त्री पर
बजा राग सुहाना
आपका आना ।
149
प्यारे हैं रूप
माँ,बेटी, बहिन
सर्दी की धूप ।
150
मुझे न भाया
चतुर व सयाना
मैं लौट आया ।
151
धर्म के खेल
धधकती आग में
डालते तेल ।
152
गंगा नहाए
लाखों बार फिर भी
मैल न जाए ।