भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आबादी कम करौ, रुख राई लगावौ / माधुरीकर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तरिया के पार मा
एको ठन रुख राई नइ ए
गांव मा लइका-पिचका मन

गाय-गोरू कस खरखा खोइर जोरीयाथैं
दाई ददा आस रखिन हैं
मोर लइका मोला कमा के खवाही

फेर लइका ह अपन पेट ल भरे नइ सकिस
त दूसर ला का खवाही
डारा पाना के तो बाते ला छोड़

अब तो घास बिना धरती माई ह दुबरात जाते हे
आबादी कम नइ होही
त कुछु साल मा हवा वर घलो रासन कारड बनाय वर परही

आक्सीजन ए सलिंडर घलो पीठ मा लाद के चले वर परही
डोकरी दाई बबा आस करे हे
नानी-पोती मन ला खेलावों

ओ मन तुंहर खेलौना नो हे
ओमन ल जिए के रद्दा वतावौ
एक घर मा एक झिन लइका

पांच ठन रुख राई लगावों
दीदी मन आबादी ला कम करौ
भैया मन रुख राई मन ला बढ़ावौ

अकाल-दुकाल बह कभु नइ होय
सुख के वंसी बजावौ ।