भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आया आया री सासड़ सामण / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आया आया री सासड़ सामण मास डोर बटा दे री पीली पाट की
आया तो बहुअड़ री आवण दे जाय बटाइयो अपने बाप कै
आया आया री सासड़ सामण मास पटड़ी घड़ा दे चन्दन रूख की
आया तो बहुड़ री आवण दे जाय घड़ाइयो अपणे बाप कै
आया आया री सासड़ सामण मास हमनै खंदा दे री म्हारे बाप कै
इब तो बहुअड़ री खेती का काम फेर कदी जाइयो री अपणे बाप कै