भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आयुर्वेद / शीतल प्रसाद शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बेरा चढ़त ले सुतइया, अपनी गर्मी ल छरियाये
उही गर्मी माथा पीठ, पेट, बात पीरा उपजाय।
चैत बैशाख म आमा, अग्घन पूस बिही।
सावन भादों थोरकिन खवइया, अब्बड़ दिन जीही।
खाली पेट म पानी, भरे पेट म अन्न
कभु झन खाहौ भइया, बिगड़ ज़हीं तन