भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आयेंगे मेरे पास वो ख़ुद देखना इक दिन / आशीष जोग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आयेंगे मेरे पास वो ख़ुद देखना इक दिन,
इस आस में ही मैं कहीं मर जाऊं ना इक दिन |

ऐसे मिले हम दफ्फातन थे पहली पहली बार,
ऐसे हि किसी मोड़ पे मिल जाओ ना इक दिन |

किसने की बेवफ़ाई किसका था ये कुसूर,
फुरसत मिले तो ये भी कभी सोचना इक दिन |

खोया हूँ तेरे ख्व़ाब में बरसों से में अब तक,
ख़्वाबों से हकीकत कभी बन जाओ ना इक दिन |

कहते हो समझता हि नहीं दिल की जुबां मैं,
ख़ामोशियों का मेरी सबब पूछना इक दिन |

आदत सी हो गयी है अंधेरों की मुझे अब,
रोशन सी शमा बन के कोई आओ ना इक दिन |