भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आरता ए आरता संझा माई आरता / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आरता ए आरता संझा माई आरता
आरता के फूल चमेली की डाल्ही
नौ नौ नोरते दुरगा माई के
सोलां कनागत पितरां के
जाग सांझी जाग तेरै मात्थे लाग्या भाग
पीली पीली पट्टिआं सदा सुहाग
सांझी ए के ओढैगी के पहरैगी
क्यांहे की मांग भरावैगी
स्यालू ओढूंगी मिसरू पहरूंगी
मोतिआं की मांग भराऊंगी
सूच्चयां का जूड़ा जड़ाऊंगी
धूंधाए कै ओढैगी के पहरेगी
क्यांहे की मांग भरावैगी
क्यांहे का जूड़ा ए जड़ावैगी
गूदड़ औढूंगी खादड़ पहरूंगी
ढेर्यां की मांग भराऊंगी
ल्हीखा का जूड़ा ए जड़ाऊंगी।