भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आलम में अगर इश्क़ का बाज़ार / 'फ़ुगां'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आलम में अगर इश्क़ का बाज़ार न होता
कोई किसी बंदे का ख़रीदार न होता

हस्ती की ख़राबी नज़र आती जो अदम में
उस ख़्वाब से हरगिज़ कोई बेदार न होता

कहता है तुझे ख़ाक न दूँ ग़ैर-ए-अज़ीयत
ये दिल में अगर थी तो मेरा यार न होता

मालूम किसे थी ये तेरी ख़ाना-ख़राबी
मैं जानता ऐसा तो गिरफ़्तार न होता

आलम को जलाती है तेरी गर्मी-ए-मजलिस
मरते हम अगर साया-ए-दीवार न होता

ऐ शैख़ अगर कुफ़्र से इस्लाम जुदा है
पस चाहिए तस्बीह में ज़ुन्नार न होता

ज़ालिम मेरे हासिद की तो शादी थी इसी में
यानी मुझे दर तक भी तेरे बार न होता

देते तेरी मजलिस में अगर राह ‘फ़ुग़ाँ’ को
उस शख़्स से हरगिज़ कोई बे-ज़ार न होता