भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आलम / परिचय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आलम ब्रजभाषा के प्रमुख मुसलमान कवियों में से एक हैं। कहते हैं ये जन्म के ब्राह्मण थे। एक बार शेख नाम की रंगरेजिन को इनकी पगड़ी में एक आधा दोहा बँधा मिला, 'कनक छड़ी सी कामिनी, काहे को कटि छीन, जिसकी उसने पूर्ति की, 'कटि को कँचन काटि बिधि, कुचन मध्य धरि दीन। इस पर रीझकर आलम मुसलमान हो गए और उससे निकाह कर लिया। तब से दोनों शेख या आलम के नाम से कविता करने लगे। इनके पुत्र का नाम 'जहान था। एक बार औरंगजेब के पुत्र ने शेख से मजाक किया, सुना है आप आलम की बीवी हैं, उसने फौरन कहा, जहाँपनाह 'जहान की माँ मैं ही हूँ। आलम के तीन ग्रन्थ हैं- 'माधवानल-काम-कन्दला, 'श्याम-सनेही तथा 'आलम-केलि। 'आलम केलि इनके श्रेष्ठ मुक्तकों का सँग्रह है।