भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आले गीले चन्दन कटाय मेरे बाबा / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आले गीले चन्दन कटाय मेरे बाबा
और जाय धरे धरमसाला जी
नई बनाई अट्टालिका जी
जिस चढ़ देखे बीबी का बाबा
कितनी आई है बरात जी
देख डरा बीबी का दादा
यह दल कहां समाय जी
नौ लख घाड़े सवा लख हाथी
गाड़ियों की लगी है कतार जी
क्यों लरजो मेरे भोले से बाबा
राम करै बेड़ा पार जी
वह आवैं मेरे ताऊ चाचा
वह आवैं मेरे मामा फूफा
हंस हंस लेंगे बरात जी
मत घबरा मत घबरा मेरे बाबा
वही लगावैं पार जी