भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आवाज़ें / कंस्तांतिन कवाफ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आवाज़ें, प्रीति-पगी और मिसाल बन चुकीं
उनकी, जो मर गए, या—
जो मरे हुओं की ही तरह
         हमारे लिए गुम हो गए,
                          उनकी ।

कभी-कभार वे ख़्वाबों में हमसे बतियाते हैं
कभी-कभार सोच में गहरे डूबा दिमाग़ उनको सुनता है ।

और उनकी आवाज़ के साथ, पल भर के लिए
लौट आती हैं हमारी ज़िन्दगी की पहली कविता की आवाज़ें—
जैसे कि रात के वक़्त मद्धिम पड़ता जाता दूरस्थ संगीत ।
 
अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुरेश सलिल