भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आवाज़ / रतन सिंह ढिल्लों

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं तुझे
नदी के इस किनारे से
आवाज़ दे रहा हूँ

तू नदी के दूसरे किनारे
मेरी तरफ
पीठ करके खड़ी है
 
काश!
तेरी पीठ पर उग आतीं आँखें
पुल बन सकती मेरी आवाज़ ।
 
मूल पंजाबी से अनुवाद : अर्जुन निराला