भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आवै-कनी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात तैं देख्यो चांद नै
बादळां री बाथां में
घड़ी-घड़ी
दिनूगै देखी
नीमड़ै री डाळां माथै
चिड़ै सूं चूंच मिलावती चिड़ी
अबै म्हैं ऊभो थारै सामैं
आवै-कनी बाथां में
कांई सोचै है खड़ी-खड़ी ?