भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आशावादी आदमी / नाज़िम हिक़मत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब वह बच्चा था, उसने मक्खियों के पर नहीं नोचे
बिल्लियों की पूँछ में टिन नहीं बाँधा
माचिस की डिब्बी में भँवरों को क़ैद नहीं किया
चींटी की बाम्बी नहीं ढायी

वह बड़ा हुआ
और यह सबकुछ किया गया उसके साथ

जब वह मरा तो मैं उसके सिरहाने खड़ा था
उसने कहा कि एक कविता सुनाओ
सूरज और समुद्र के बारे में
नाभिकीय संयन्त्र और उपग्रहों के बारे में
मानवजाति की महानता के बारे में

अंग्रेज़ी से अनुवाद : दिगम्बर