भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आशावादी इंसान / नाज़िम हिक़मत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बचपन में उसने
कभी किसी मक्खी के पर नही नोचे थे
न ही बिल्ली की पूँछ में टिन की केन बाँधी
और न ही भँवरे को माचिस की डिबिया में बन्द किया
यहाँ तक कि बाम्बी पर कभी ठोकर भी नही मारी थी
किन्तु बड़े होने पर उसने ये सभी काम किए
जब उसकी मृत्यु हुई
मैं उसके पलंग के पास ही था
उसने मुझसे कहा
मेरे लिए एक कविता पढ़ो
कविता सूरज और समन्दर के बारे में
आणविक भट्टियों और उपग्रहों के बारे में
मनुष्यत्व की महानता के बारे में

अंग्रेज़ी से अनुवाद : नीता पोरवाल