भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आशावादी / नाज़िम हिक़मत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब वह छोटा था तो उसने कभी नहीं नोचे मक्खियों के पर,
न ही कभी टीन के डिब्बे बाँधे बिल्लियों की पूँछ से,
माचिस की डिब्बियों में कभी नहीं बन्द किया कीड़ों को,
न ही नष्ट किया कभी चींटियों की बाँबी को।
 
वह बड़ा हुआ तो
ये सारी चीज़ें उसके साथ की गईं।
जब वह मृत्युशय्या पर था
तो उसने मुझसे एक कविता सुनाने के लिए कहा,
सूरज और समुद्र के बारे में,
परमाणु रिएक्टरों और उपग्रहों के बारे में,
मानव जाति की महानतम उपलब्धियों के बारे में.
                                                                 6 दिसंबर 1958
                                                                                              बाकू

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल