भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आशिक़ के मुख पे नैन के पानी कूँ देख तूँ / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आशिक़ के मुख पे नैन के पानी कूँ देख तूँ
इस आरसी में राज़-ए-निहानी कूँ देख तूँ

सुन बेक़रार दिल की अवल आह-ए-शो'ला ख़ेज़
तब इस हरफ़ में दिल की मुआफ़ी कूँ देख तूँ

ख़ूबी सूँ तुझ हुज़ूर-ए-शम्‍अ दम ज़नी में है
इस बेहया की चर्बज़बानी कूँ देख तूँ

दरिया पे जाके मौज-ए-रवाँ पर नज़र न कर
अँसुआँ की मेरे आके रवानी कूँ देख तूँ

तुझ शौक़ का जो दाग़ 'वली' के जिगर में है
बेताक़ती में उसकी निशानी कूँ देख तूँ