भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आशियाना (हाइकु) / भावना कुँअर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(आशियाना )
 न बस सका
 मेरा ही आशियाना
 सबका बसा

(भटकन)
भटका मन
गुलमोहर वन
बन हिरन

(सरसों)
खेत है वधू
सरसों हैं गहने
स्वर्ण के जैसे

(पवन)
मन्त्रोचारण
करती ये पवन
देव - पूजा सी

(गाँव)
नीम की छाँव
मीठे कुएँ का पानी
वो मेरा गाँव