भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आश्वस्ति / धूमिल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सात रंग
होंठों पर तौल कर
विधवा गर्भिणी ने कहा —
’डेढ़ किलोग्राम है’
लेकिन मैं
सौदे की दुनिया से बाहर था
पूछा नहीं —
उसका क्या नाम है?
हाँ...आँ...लो
यह पूरा दाम है।