भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आश्वासन का लम्बा घूँट / शीलेन्द्र कुमार सिंह चौहान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आश्वासन का लम्बा घूँट
बैठो अभी
अभी बस साहब आने वाले हैं ।
 
तब तक लिखवा लो तुम अपनी
मन-माफ़िक अर्ज़ी
लिखवाना कुछ सच का किस्सा
कुछ क़िस्सा फर्ज़ी

आश्वासन का
लम्बा घूँट पिलाने वाले हैं ।
बैठो अभी
अभी बस साहब आने वाले हैं ।

मेरी चिन्ता मत करना बस
चाय-पान काफ़ी
चाहोगे तो करवा दूँगा
सौ दो सौ माफ़ी
 
और दाँत
खाने के और दिखाने वाले हैं ।
बैठो अभी
अभी बस साहब आने वाले हैं ।
 
एक बार में काम न हो तो
कोई बात नहीं
आना लौट यहीं मत जाना
चलकर और कहीं

जैसे नमक
दाल में वैसा खाने वाले हैं ।
बैठो अभी
अभी बस साहब आने वाले हैं ।