भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आसमां में कोई धुंधला सितारा होगा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आसमां में कोई धुंधला सितारा होगा।
तलाशे भोर का जनमों से मारा होगा।

पहली नज़र पड़ते ही मिटते वज़ूद यहां,
माहौले-खौफ़ में कैसे गुज़ारा होगा!

हसरते-दीदार वाले पिटकर लौटे हैं,
कल जलसा यहां फिर कैसे दुबारा होगा!

फस्ले-बहार मांग रही है अब कुर्बानी,
मर मिटने वालों में नाम हमारा होगा!

प्यासे दम तोड़ते मिले गंगा के किनारे,
हमने सच सोचा यहां यह नज़ारा होगा!