भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आसाढ / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खीरा उछालतो आयो असाढ !
लूवां री गांठड़ी लायो असाढ !

धोरां-धोरां बादळियां लारै,
भटकतो फिरै तिरसायो असाढ !

ताम्बै वरणी हुयगी चामड़ी,
बस पसेवो ई कमायो असाढ !

सांय-सांय, सांय-सांय, सांय-सांय,
सड़कां माथै तरणायो असाढ !

रमता दीसै कोनी टाबरिया,
गळी-गळी फूंफायो असाढ !