भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आ जा बादल / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आ जा बादल आ जा बादल
आ जा लेकर अपना दलबल

सागर से उठकर तू आ जा
आसमान में जाकर छा जा

सब मटके पानी से भर ले
उमड़-घुमड़ कर गर्जन कर ले

हौले-हौले आ रे बादल
रिमझिम जल बरसा दे बादल

धरती को सरसा जा बादल
मिट्टी को महका जा बादल

पेड़ो को सहला जा बादल
पौधों को दुलरा जा बादल।