भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आ जा री नींदिया / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सो जा मेरी बिटिया रानी
सो जा, सुख सपनों की रानी!
सो जा, मेरी मुन्नी प्यारी
सो जा मेरी राजदुलारी!
बिछी दूध सी कोमल शैया
सोया उस पर तेरा भैया!
तू भी साथ साथ सो जा री
सो जा मेरी राजदुलारी!

मेरे बाल कन्हैया सो जा।
तेरा झूला बना सुहाना
ऊपर नव वितान है ताना
तारों के मोती की झालर
पिंजरे के पंछी का गाना।

चाँदनी की ओढ़ चादर
किरण का झूला बनाकर
झूलता है चाँद नभ में
मां तुझे झूला झुलाये।

सो जा मुन्ने! सो जा प्यारे
सो जा, मेरे राजदुलारे।
चिड़िया और चिरौटा वाली
सुना चुकी हूँ तुझे कहानी
घोड़ा एक, एक था राजा
राजा एक, एक थी रानी
मूँदनयन अब सो जा प्यारे
सो जा मेरे राजदुलारे!

यह मेरे सुख का सपना है
सबसे कुछ न्यारा अपना है।
इसे प्यार करने को कितना
भटक चुका है मेरा भी मन
धीरे बहाना मस्त समीकरण।
यह हँस देगा, हँस दूँगी मैं
यह रो देगा, रो दूँगी मैं!
भोले मुख की प्यारी छवि ही,
है मुझको जीवन संजीवन।