भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आ नाव मझधार अर एकलो आदमी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आ नाव मझधार अर एकलो आदमी
आ टूटी पतवार अर एकलो आदमी

पडूं-पडूं भींतां अर छात हेठै वासो
आ बिरखा री मार अर एकलो आदमी

थारो कांई तूं बस थारी खेंच ओढ
आ बात बेकार अर एकलो आदमी

हाथ नै बाढै हाथ अर छोड़ै पग मन
आ दोलड़ी मार अर एकलो आदमी

एक आस लियां मन अलख जगातो फ़िरै
आ हवा हथियार अर एकलो आदमी