भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

आ बातां में है गुण बाबा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आ बातां में है गुण बाबा
तूं कीं तो म्हांरी सुण बाबा

बारी तो बस मोठां री है
पीसीजै लाई घुण बाबा

ऐ आंगळ्‌यां हाथ सूं न्यारी
ऐ रोळो लायो कुण बाबा

कांईं म्हैं अर कांईं औ बगत
पाछो कुण आसी सुण बाबा

माटी रो उछाळो नीं दबै
अब सेवट तूं आ सुण बाबा