भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आ सांस जिंयां / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मन काचो क्यूं करै बावळी
अळगा हुयां ई ठा पड़ै
आपां कित्ता सागै हां
 
तूं किसी जाणै कोनी
सागै रैवै लोग
तो ई कित्ता अळगा हुवै
          एक दूजै री सांस सूं
 
गळगळी हुयोडी है तो कांई
एकर मुळक परी
आ मुळक थारी : उजास म्हारै मारग रो
 
मोड़ै ऊभ विदा करतै
डाबर-नैणा री कोरा ठैरियोड़ै
          पाणी री सौगन
म्हैं कठै ई रैवूं
तूं हरदम सागै हुवै म्हारै
सागै आ सांस जिंयां !