भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आ है होळी ? / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लोगां नै
बुद्धू बक्सै री बाथां में देख
रंग नै रळी आयगी
रंग खेलण री
आ देख
होळी में बड़गी होळी
पण
इक्कीसवीं सदी कानी
आंधा हुय र दौड़ते लोगां री भीड़ में
गुलाल नै लाध्या कोनी गाल
अर
पिचकारी नै चोळी
आ है होळी ?