भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इंयां ई आछी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आडो खड़कायां बिना ई
एक दिन अचाणचक
म्हैं पूग्यो घरां
टाबर पढ़ै हा
बै बोल्या-बतळाया

कुण है…… कुण है
करती तूं आयी रसोई सूं

आटै सूं भरियोड़ा हाथ थारा
लिलाड़ रो पसेवो पूंछती
केसां नै लारै करती…

देख म्हनै
तूं सोधण लागी ओढ़णियो

पण सुण
ऊभी रह घड़ी भर
ऊभी रह
इंयां ई आछी लागै तूं !