भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इंसान कहाँ (हाइकु) / जगदीश व्योम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज




इर्द गिर्द हैं
साँसों की ये मशीने
इंसान कहाँ !


कुछ कम हो
शायद ये कुहासा
यही प्रत्याशा ।


सहम गई
फुदकती गौरैया
शुभ नहीं ये।