भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इंसान तो इंसान है / बाल गंगाधर 'बागी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इंसान तो इंसान है मजहब कोई नहीं
दिल सभी का दोस्त है देरो1 हरम2 नहीं
कोई नहीं अजान न मंदिर की घंटियां
दो बोल प्यार के किसी से कम नहीं
इंसान के दिमाग से कुछ काम निकलता है
और इस अजीज-सा कोई वतन नहीं