भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इक्कीसवीं सदी का आम आदमी-2 / लीलाधर जगूड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ग़रीब को मिली है परधानी
कार्यकर्ता जुटे हैं पायलागन में
बजट के बिना यह तो सिर्फ़ सपना हुआ
आमदनी बढ़े तो समझो विकास हुआ
परधान कुछ दे न सके अपनों को
समाज-सेवा क्या यह तो माला जपना हुआ
पहले जो मुद्रा बताई गई थी भ्रष्टाचार की
वह ऊपर से नीचे की ओर बताई गई थी
जो कि पूरी तरह अधोगामी हो गया है
इक्कीसवीं सदी का आम आदमी
भ्रष्टाचार में अपना हिस्सा माँग रहा है
परसों भारत माता क्यों रोई ?
कितनी दूर बिना ईंधन चल पाएगा कोई?
हर कोई लोकतंत्र में अपना हिस्सा माँग रहा है ।।