भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

इक्कीसवीं सदी की शुरुआत / विजय गौड़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी का आना
और किसी का चले जाना
किसी का पैदा होना
और किसी का मर जाना
किसी का डूबना
और किसी का तैरते रहना
किसी का सो जाना
और किसी का जागते रहना,
उत्साहित करते हैं उन्हें
और चाहते हैं वे,
उन्हीं की तरह उत्साहित रहे
परेशानियों में दम तोड़ती दुनिया भी
 
नशे से भरा उत्साह ही पैदा करेगा
नये खरीद्दार
पैदा होगा नया बाज़ार
और उनके अटे पड़े मालों पर
होने लगेगी ख़ून-पसीने की बौछार
 
उत्साह के नशे में
एक बेवज़ह, फ़ालतू
बहस शुरु होगी
 
इसी तरह चलेगा व्यापार
 
ग्लोबलाईजड पूंजी का
संकट होगा दूर