भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इक्कीसवीं सदी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साव उघाड़ी
साटणिया साथळां
काकड़ियै-सा फाटता बूकीया
    अर ए श्रीफळ
आंख्यां रातीचोळ
जाणै छक’र पी हुवै हथकढ़ी

जठै जावूं
म्हारै गळै पड़ै
आ उफणती नदी
नांव पूछूं तो एक ई उथळो-
    म्हैं इक्कीसवीं सदी !
    म्हैं इक्कीसवीं सदी !!