भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इक्कीसवी सदी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एकदम अनावृत
चिकनी जांघे
गदराई बाहें और
भरे-पूरे श्रीफल
आंखें एकदम लाल
मानो छक कर पी रखी हो-
हत्थकढ़ी !
जहां जाता हूं
मेरे गले पड़ती है
यह उफनती नदी
पूछता हूं नाम तो
मिलता है एक ही जबाब
मैं इक्कीसवीं सदी !

अनुवाद : नीरज दइया