भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इक घड़ी भी जियो इक सदी की तरह / डी. एम. मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इक घड़ी भी जियो इक सदी की तरह
जिदगी को जियो जिंदगी की तरह।

रास्ते खु़दबखु़द ही निकल आयेंगे
जब बहो तो बहो इक नदी की तरह।

क्यों परेशान होते हो कल के लिए
जब खिलो तो खिलो इक कली की तरह।

दूसरों के लिए भी उजाला बनो
जब जलो तो जलो रोशनी की तरह।

नींद मे भी हैं पलकें बिछाये हुए
उड़के आ जाओ तुम इक परी की तरह।

ये न सोचा था इतने क़रीब आओगे
हम मिले थे कभी अजनबी की तरह।