भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इक फ़रामोश कहानी में रहा / अबरार अहमद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इक फ़रामोश कहानी में रहा
मैं जो उस आँख के पानी में रहा

रुख़ से उड़ता हुआ वो रंग-ए-बहार
एक तस्वीर पुरानी में रहा

मैं कि मादूम रहा सूरत-ए-ख़्वाब
फिर किसी याद-दहानी में रहा

ढँग के एक ठिकाने के लिए
घर-का-घर नक़्ल-ए-मकानी में रहा

मैं ठहरता गया रफ़्ता रफ़्ता
और ये दिल अपनी रवानी में रहा

वो मिरा नक़्श-ए-कफ़-ए-पा-ए-तलब
अहद-ए-रफ़्ता की निशानी में रहा

मैं कि हँगामा-ए-यक-ख़्वाब लिए
कोई दिन आलम-ए-फ़ानी में रहा