भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इच्छा / रोज़ा आउसलेण्डर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं सोचती हूँ
कितने सारे शब्द खो देते हैं हम ।

जब तक मेरी नज़र उन पर पड़े
वे इतने कम हो जाते हैं
इतने कम शब्द
साँस लेते हैं मेरे साथ ।

मुझे याद आते हैं
कुछ शब्द —
’हम’
’पहले से ही’
’साथ-साथ’

मैं बाँटना चाहती हूँ
उन्हें
तुम्हारे साथ ।

रूसी भाषा से अनिल जनविजय द्वारा अनूदित