भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इण रम्मत में / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हैं जीतूं अर तूं हारै
का पछै
तूं जीतै
अर म्हैं हारूं
तो इण सूं कांई फरक पड़ै ?

सुण म्हारी मरवण !
आपणै बिच्चै
हार-जीत रा दावा ई बिरथा

तूं जीतणी चावै
तो जीत भलांई नित
म्हनै तो हार कबूल रोजीनै

म्हैं जाणू
इण रम्मत में
हार ई जीत है !