भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

इण रो नांव देख खुशी भायला / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इण रो नांव देख खुशी भायला
थारै सागै आ कद ही भायला

आभो ओढ अर धरती पोढ तूं
उबासी खा पाणी पी भायला

ना हवा लाधै अर ना रोसणी
अबै अठै इंयां ई जी भायला

हां भर सागी बेळा मुकरणो
आ बाण कठै सीख ली भायला

औ पंछी किंयां उडसी बता
पांखां अडाणै धर दी भायला