भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इन्हीं ख़ुश-गुमानियों में कहीं जाँ से भी न जाओ / फ़राज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इन्हीं ख़ुशगुमानियों में कहीं जाँ से भी न जाओ
वो जो चारागर नहीं है उसे ज़ख़्म क्यूँ दिखाओ

ये उदासियों के मौसम कहीं रायेगाँ न जाएँ
किसी ज़ख़्म को कुरेदो किसी दर्द को जगाओ

वो कहानियाँ अधूरी जो न हो सकेंगी पूरी
उन्हें मैं भी क्यूँ सुनाऊँ उन्हें तुम भी क्यूँ सुनाओ

मेरे हमसफ़र पुराने मेरे अब भी मुंतज़िर हैं
तुम्हें साथ छोड़ना है तो अभी से छोड़ जाओ

ये जुदाइयों के रस्ते बड़ी दूर तक गए हैं
जो गया वो फिर न लौटा मेरी बात मान जाओ

किसी बेवफ़ा की ख़ातिर ये जुनूँ "फ़राज़" कब तक
जो तुम्हें भुला चुका है उसे तुम भी भूल जाओ