भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इन दिनों / राजेन्द्र देथा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इन दिनों कविताओं ने
बचा रखी है जिंदगी को
प्रेम को शाश्वत रख रखा है
प्रेम कविताओं ने, नज्मों ने
कॉमरेड इन दिनों जुगत में है
गरीबों, शोषितों के दुखों को
उल्लेखित करने में
बच गया है जीवन का
आत्मिक दर्शन,
मात्र दार्शनिक के गद्य में
परसों गुजर रहा था
शहर बीच वाली
चाय की थड़ी से
तमाम तरह के कवियों
दार्शनिकों, कवियत्रियों
का एक धड़ा संतुलित करने
की जुगत में लगा हुआ था
अपने आंतरिक असहमतियों को
बाह्य सहमतियों से!