भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इम्तिहान / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जि़ंदगी ने झकझोरा बहुत
झुकाया
तोड़ा
सताया बहुत
आँसुओं की सूखी लकीरों से
समय के थपेड़ों में उलझी
जालों की शक्ल लिए झुर्रियों से
पूछो
मेरी हँसी को कहाँ कुछ कर पाए तुम?
मुझे हँसने से कहाँ रोक पाए तुम?