भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इलाही किस क़ियामत के मिरे नाले रसा निकले / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इलाही किस क़ियामत के मिरे नाले रसा निकले
तहे-तहतुस्सरा पहुंचे सरे-फ़ौक़स्समा निकले

बवक़्ते-गिरया पासे-इजतिराबे-क़ल्ब लाज़िम है
जो आंसू आंख से निकले तड़पता लौटता निकले

कभी पर्दे में रह सकती नहीं शुहरत हसीनों की
जो पर्दे में रहा करते थे आलम-आश्ना निकले

बना कर इक ठिकाना रह सके कब तेरे दीवाने
कभज बस्ती में आ धमके, कभी सहारा में जा निकले

ख़ुशी की इंतिहा से है मुझे उल्टी परेशानी
ख़ुशी की इंतिहा डर है न ग़म की इब्तिदा निकले

महब्बत की है शायद ऐ 'वफ़ा' इक ये भी मजबूरी
भरे हों दिल में तो शिकवे मगर मुंह से दुआ निकले।