भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस्लामाबाद / असद ज़ैदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मौसम ख़ुशनुमा था धूप में
तेज़ी न थी हवा धीरे धीरे
चलती थी, पैदल चलता आदमी
चलता चला जा सकता था कई मील
बड़े मज़े से

यह भी एक ख़ुशफ़हमी थी हालाँकि

मेरे साथ चलते शुक्ल जी से जब रहा न गया
तो बोले :

मेरे विचार से तो अब हमें इस्लामाबाद पर
परमाणु बम गिरा ही देना चाहिए।