भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस अबर में यार से जुदा हूं / इमाम बख़्श 'नासिख'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस अबर में यार से जुदा हूं
बिजल की तरह तड़प रहा हूं

दिन-रात तसव्वुर परी है
दीवाना में इन दिनों बना हूं

गो बैठ रहा हूं इक जा लैक
पामाल बसान-ए-नक़्श-ए-पा हूं

ऐ अबर-ए-शब-फिराक़ दे साथ
श्रोने पर मुस्तअद हुआ हूं

सर रख के कभी वो सो गया था
अब तक जानो को सूंघता हूं

वहशत ने निकाला उस गली से
कांटों पर उस को खींचता हूं

आईना दिल में है तेरा अक्स
दिन-रात मैं तुझ को देखता हूं

मुमकिन नहीं है इजतमा-ए-ज़दीन
तो बुत है बंद-ए-ख़ुदा हूं

है महर-ओ-वफ़ा सरासर इस में
नासिख़ क्यों कर उसे न चाहूं