भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस आशा में जीवित हम शायद मौसम बदले / अमन चाँदपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस आशा में जीवित हम शायद मौसम बदले
अभी अमावस-सा अँधियारा जीवन में छाया
नींद दृगों से छीन हमें दुनिया ने भरमाया
आशा-गठरी लिए कदाचित सूरज अब निकले

ग़ैर हो गए हैं अपने ही अब जीवन पथ में
फँसा हुआ हूँ कर्ण-सदृश जीवन-रण के रथ में
वचन टूटते मेरा उन पर कोई वश न चले

पल-पल छलते यहाँ सगे जब किसे कहें अपना
द्वेष-कपट-छल सच्चाई है, प्रेम हुआ सपना
पल भर में सदियों का किस्सा कह आँसू फिसले

नहीं सुखों की छाँव कहीं हैं, दुख की राहें हैं
क़दम-क़दम पर मजबूरी की मिलती आहें हैं
ऐसे दावानल में कोई कब तक भला जले