भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस एमटी. के दुःख घने किस ढ़ाल गिणऊ मैं / मेहर सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हो हो रे गौरी के बात बताऊ मैं
इस एमटी. के दुःख घने किस ढ़ाल गिणऊ मैं।टेक

पहला दुःख गार्ड बूट पहर कैनै सौणां पड़ै
सीओ परेड की चिन्ता भारी एतबार भी खोणा पड़ै
बराबर की या नफरी ज्यादा सिंगल फाईल होना पड़ै
गाड़ी पै डिटेल हो ज्या सारी चिन्ता साथ हो ज्यां
सीएमई की इन्सपैक्सन हो ज्या बहुत बड़ी सुबात हो ज्या
काला मुंह और काले कपड़े काला सारा गात हो ज्या
रोज आना गाड़ी ले कै ड्यूटी पै जाऊं मैं।

कान-बाई मैं नम्बर पड़ग्या मेरी गाड़ी संग होगी
पहाड़ी ऊपर चढ़ती कौन्या गैयर नोट पुलिंग होगी
पास कर नै पिछली दूनिया सारी तंग होगी
अस टेरंग भी टाईट होरी आयल लिक सम्प करै
पैट्रोल की कमी घणी दुखी एसी पम्प करै
रोड है खराब गोरी गाड़ी घणी जम्प करै
कलच (किलच) दबा कै अगले पाछले गेर लगाऊं मैं।

फिटर भी सिर मार गए बोल कै देती रानी
रेडिएटर भी गर्म होरया गर्म तो बणावै पानी
सीएमई की चैकिंग वाले करते फिरते खैंचा तानी
गाड़ी में लोह-लकड़ गौरी बैठण की त ठौड़ कौन्या
लाईट जिस की ठीक प्यारी दिखता यो रोड़ कौन्या
अस्टेरंग भी टाईट गोरी कटता कितअ मौड़ कौन्या
तारीख 31 जेब खाली के लै कै खांऊ मैं।

टोचन कर कै र्स्टाट करी फैन बैल्ट टूट गया
ऊतराई मैं बरैक मारे पिछला टैर फूट गया
जल्दी कर कै टायर बदल्या जैक वहीं छूट गया
यूनिट के मैं पेसी होगी साथियों से मिलाप हुआ
28 दिन क्वार्ट गार्ड कोरट मार्सल माफ हुया
टुल बाक्स की चैकिंग होगी पैमेंट अपने आप हुया
कहे जाट मेहर सिंह जैक बता इब कित तै लाऊं मैं।