भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस क़दर ग़र्क़ लहू में ये दिल-ए-ज़र न था / इनामुल्लाह ख़ाँ यक़ीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस क़दर ग़र्क़ लहू में ये दिल-ए-ज़र न था
जब हिना से तेरे पाँव को सरोकार न था

हुस्न का जज़्ब ज़ुलेख़ा सेती कुछ चल न सका
वर्ना ये पाक गुहर क़ाबिल-ए-बाज़ार न था

दिल में ज़ाहिद के जो जन्नत की हवा की है हवस
कूच-ए-यार में क्या साया-ए-दीवार न था

दिल मेरा इश्क के धड़कों से मुवा जाता है
ये वो दिल है कि कोई ऐसा जिगर-दार न था

‘‘आप से क्यूँ न हुआ’’ कह के ‘यक़ीं’ को मारा
रास्त पूछो तो कोई मुझ से गुनह-गार न था